Tue. Jul 23rd, 2024

‘मैं अटल हूं’ 2024 : लव लेटर और कविताओं से गुजरते हुए राजनीति का शक्तिशाली सफर

Jan 19, 2024
मैं अटल हूं

‘मैं अटल हूं’: लव लेटर और कविताओं से गुजरते हुए राजनीति का शक्तिशाली सफर

मैं अटल हूं

‘मैं अटल हूं’ :

इस फिल्म में, देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की कहानी को सुंदरता से परिचित किया गया है। उनका किरदार बॉलीवुड एक्टर पंकज त्रिपाठी ने बहुत ही प्रभावी ढंग से निभाया है।फिल्म एक बहुत महत्वपूर्ण दृश्य से शुरू होती है, जहां प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी अपने मंत्रियों के साथ शांति प्रस्ताव या पाकिस्तान के साथ युद्ध पर चर्चा करते हैं। उनका आदर्शवादी दृष्टिकोण और पड़ोसी देशों के साथ संबंध सुधारने की उनकी कठिनाईयों में हम उनके विश्वासवाद को महसूस करते हैं। वह हमेशा अपने देश को पहले रखते हैं, लेकिन दुश्मन हथियार उठाने की जरूरत पर वह सख्ती से कदम उठा सकते हैं।

फिल्म की बड़ी खूबी यह है कि इसने अटल बिहारी वाजपेयी की पूरी यात्रा को बहुत विस्तार से दिखाया है। फ्लैशबैक सीन के माध्यम से हमें उनके बचपन के दिनों का एक अद्वितीय दृष्टिकोण मिलता है, जैसे छोटे अटल जो ताज महल में कविता पढ़ते हैं।

कहानी में एक बड़े दिनों के बाद, जब यह छोटा बच्चा बड़ा होता है, एक दिन वह चुपके से एक बिल्डिंग में चढ़ता है और वहां पर इंग्लैंड का झंडा हटाकर भारतीय झंडा लगा देता है। राष्ट्रीय सेवा संघ (आरएसएस) के सबसे तेज़ सदस्यों में से एक, वाजपेयी ने अपने उत्कृष्ट क्रियाओं से बड़े बदलाव की क़सरत की है।

‘मैं अटल हूं’ रिव्यू :

दिवंगत प्रधानमंत्री की इन विशेषताओं को फिल्म में बहुत ही सूक्ष्म तरीके से दिखाया गया है, लेकिन इसकी राइटिंग थोड़ी सुस्त लगी जो उन्हें प्रभावशाली तरीके से पूरा न्याय नहीं करता है। कुछ डायलॉग ऐसे हैं जिन्हें समझने में मुश्किल होती है।

फिल्म में कई महत्वपूर्ण घटनाएं दिखाई गई हैं जैसे 1953 में कश्मीर अटैक, 1962 में चाइना वॉर, 1963 में पाकिस्तान से लड़ाई और 1975 में इमरजेंसी। विशेषकर, इन घटनाओं को फिल्म में दिखाना जरूरी था, लेकिन इससे फिल्म कुछ स्लो लगती है।

दूसरे हाफ में, वाजपेयी के करियर के महत्वपूर्ण मोमेंट्स जैसे पोखरण टेस्ट के बाद भारत को न्यूक्लियर पावर बनाना, दिल्ली से पाकिस्तान बस सेवा और कारगिल युद्ध दिखाए गए हैं। डायरेक्टर ने कोशिश की है कि 2 घंटे 19 मिनट में सभी घटनाएं दिखाई जाएं, लेकिन पर्दे पर इनका सीरियस मोंटाज से लगातार दिखाना फिल्म को कुछ ज्यादा लंबा बना देता है।

मैं अटल हूं

‘मैं अटल हूं’ परफॉर्मेंस :

पंकज ने शानदार परफॉर्मेंस दी है। जब वह स्क्रीन पर आते हैं, तो आप अपनी पलकें भी नहीं झपका पाएंगे। उन्होंने ना केवल अटल बिहारी वाजपेयी के लुक को बल्कि उनके भाषण के स्टाइल को भी बहुत ही बढ़िया तरीके से प्रस्तुत किया है। कभी-कभी तो आपको लगेगा कि आप वाकई में अटल बिहारी को स्क्रीन पर देख रहे हैं।

फिल्म में एक सीन है जहां रामलीला मैदान में पंकज, अटल बिहारी की भूमिका में, एक भाषण दे रहे हैं और बारिश हो रही है। यह सीन फिल्म का सर्वश्रेष्ठ सीन है।

पीयूष मिश्रा ने फिल्म में अटल बिहारी के पिता, कृष्ण बिहारी वाजपेयी का किरदार बहुत ही बढ़िया तरीके से निभाया है। हालांकि उन्हें स्क्रीन पर थोड़ा सा समय मिला, लेकिन उन्होंने अपनी परफॉर्मेंस से दर्शकों का दिल जीत लिया है। पापा-बेटे के सीन देखने लायक हैं।

इसके अलावा, राजा रामेशकुमार सेवक-ले के रूप में राजा रामेशकुमार सेवक-ले और गौरी सुख्तांकर-सुष्मा स्वराज के किरदारों में भी अच्छे नजर आए हैं।

ALSO READ : भारत vs अफगानिस्तान 2024

‘न धन है न दौलत है, मेरे पास सिर्फ और सिर्फ…’

फिल्म के एक सीन में जब वे वोट मांगने जाते हैं, तो कहते हैं, ‘निराशा, दुख, दर्द ये सब आपसे छीनने आया हूं, न मेरे पास बाप दादा की दौलत है, न कुबेर का खज़ाना, मेरे पास यदि कुछ है, तो सिर्फ और सिर्फ भारत माता का आशीर्वाद…’

फिल्म में उनके कहे गए डायलॉग और जीवन के विभिन्न किस्से देखकर कई बार आंखें नम हो जाएंगी। मगर फिल्म की कहानी का अंत भारत के 1999 में पाकिस्तान से कारगिल युद्ध जीतने पर हुआ।लगा कि कहानी अभी और बची है, अभी और देखना है… मगर अंत यहीं हो गया, मानो कुछ अधूरा सा देखा. खैर… अटल बिहारी वाजपेयी एक ऐसी शख्सियत थे, और उनका जीवन इतने किस्सों से भरा हुआ है कि इन्हें एक 2 घंटे की फिल्म में दिखा पाना मुमकिन नहीं।

READ MORE

 

Related Post

One thought on “‘मैं अटल हूं’ 2024 : लव लेटर और कविताओं से गुजरते हुए राजनीति का शक्तिशाली सफर”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *